Trending News

महिलाओं को सुरक्षा देने की कानपुर कमिश्नरेट पुलिस की पहल- घर आकर महिला पुलिस करेगी FIR दर्ज

[Edited By: Vijay]

Monday, 7th March , 2022 06:11 pm

कानपुर कमिश्नरेट पुलिस आधी आबादी यानी महिलाओं को सुरक्षा देने के लिए हर संभव प्रयास कर रहे हैं। पिंक चौकी से लेकर प्रबल प्रतिक्रिया और एंटी डोमेस्टिक वायलेंस सेल बनाकर महिलाओं की मदद कर रहे हैं। कानपुर पुलिस कमिश्नर विजय सिंह मीणा ने बताया कि कानपुर पुलिस महिलाओं के बेहद संजीदा और सजग है। अब किसी महिला को थाने या चौकी चक्कर काटने की जरूरत नहीं है। उनकी अलग-अलग सेल एक शिकायत पर खुद घर जाकर पूरे मामले की जानकारी लेने के साथ ही एफआईआर दर्ज करती है।

प्रबल प्रतिक्रिया ने महिलाओं को दी खास सुरक्षा

घरों के अंदर घरेलू हिंसा का दंश झेल रही महिलाओं को पूरी तरह से न्याय दिलाने के लिए कमिश्नरेट कानपुर में पुलिस उपायुक्त दक्षिण रवीना त्यागी द्वारा तैयार की गई इस कार्ययोजना में महिलाओं को घरेलू हिंसा से पूरी तरह से निजात दिलाने का प्रयास हो रहा है। इसके तहत जिन महिलाओं द्वारा घरेलू हिंसा की बार-बार शिकायत की जाती है। ऐसे मामलों में पीड़िताओं का पंजीकरण कर उन्हें प्रबल प्रतिक्रिया दी जाती है। शिकायत करने वाली महिलाओं को पंजीकरण के लिए प्रेरित किया जाता है । महिला द्वारा काल करने पर निकटतम पीआरवी और महिला पीआरवी को भेजा जाता है जो परिस्थिति देखकर कानूनी कारवाई करती है। कारवाई को 112 के साफ्टवेयर में अंकित किया जाता है। इसके बाद फीडबैक की प्रक्रिया की जाती है । इसमें महिला काल और वीडियो काल करके समय-समय पर महिला से फीडबैक लिया जाता है। इसके लिए एक एंटी डोमेस्टिक वायलेंस सेल का गठन भी किया गया है।

पिंक चौकी ने बनाया निडर

                                                 

महिलाओं की मदद के लिए कमिश्नरेट कानपुर के तीनों जोन में एक-एक पिंक चौकी का गठन किया गया है। साउथ जोन में किदवई नगर, वेस्ट जोन में मोतीझील, ईस्ट जोन में कलक्टरगंज थाने में पिंक चौकी बनाई गई। यहां पर महिला पुलिस को ही तैनात किया गया है ताकि महिलाएं अपनी हर तरह की परेशानी साझा कर सकें।

 महिला हेल्प डेस्क

महिलाओं की मदद के लिये कमिश्नरेट कानपुर के सभी थानों में एक महिला हेल्प डेस्क का गठन किया गया है। यहां पर सिर्फ महिला पुलिस कर्मी ही तैनात की गई हैं। यहां पर महिलाएं आकर अपनी सभी समस्याएं पुलिस को बता सकती हैं।

महिला सुरक्षा अधिकारी

महिलाओं की मदद के लिये कमिश्नरेट कानपुर के सभी थानों में महिला सुरक्षा अधिकारी की नियुक्ति की गई। यह महिला सुरक्षा अधिकारी महिला से जुडें अपराधों के संबध में विवेचना और कार्यवाही की समीक्षा करते हुए निरंतर विधिक कारवाई सुनिश्चित करते हैं।

 कानपुर में महिलाओं को मिलता है सुरक्षा स्कोर्ट

देर रात यदि कोई महिला चाहे वह कामकाजी हो या फिर देर रात कहीं सफर से अकेली घर आ रही हो और वह खुद को असुरक्षित महसूस करती है तो वह 112 नंबर पर फोन करके हेल्प ले सकती है। पुलिस की पीआरवी गाड़ी सात से दस मिनट के अंदर उसके पास जाकर उसे सकुशल घर छोड़ती है।

महिलाओं की हर समस्या का निदान आशा ज्योती केंद्र

गोल चौराहे के पास बना यह आशा ज्योती केंद्र आधी आबादी के लिए नई आशा लेकर आया है। इस केंद्र पर वह महिलाएं जो उत्पीड़न से त्रस्त तो हैं लेकिन पुलिस और थाने नहीं जाना चाहती हैं तो उनके लिये यहां मदद उपलब्ध रहती है। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के तहत यहां महिलाएं निशुल्क विधिक सहायता भी ले सकती हैं। यहां का हेल्प लाइन नंबर 181 है।

1090 है कारगर हथियार

पुलिस कमिश्नर ने बताया कि वूमेन पावर हेल्पलाइन नंबर 1090 आधी आबादी के लिए एक कारगर हथियार बना है। इसमें फोन व अश्लील मैसेज करके जो भी महिलाओं को परेशान करता है उसकी शिकायत इस नंबर पर की जा सकती है। वहां फोन करने वाली महिलाओं की पूरी जानकारी गोपनीय रखी जाती है। इसके साथ ही महिलाओं को पूरी मदद की जाती है। कानपुर कमिश्नरेट 1090 पर आने वाली कर एक शिकायत को प्राथमिकता से संज्ञान लेकर कार्रवाई करती है।

 

Latest News

World News