Trending News

भारत के लिए अहम 100 दिन... आने वाली है कोरोना की तीसरी लहर

[Edited By: Vijay]

Saturday, 17th July , 2021 03:41 pm

कोरोना की मार से पूरी दुनिया में त्राहिमाम हो रहा है.  तीसरी लहर को लेकर पिछले कई दिनों से कयास लगाए जा रहे हैं कि कब और किन प्रभावों के साथ आएगी तीसरी लहर.कोरोना थर्ड वेव को लेकर जो खबर आ रही है उससे बेहद सतर्कता की जरूरत है.

 दुनिया के कई देशों में कोरोना की तीसरी लहर ने पहले ही दस्‍तक दे दी है। पिछले एक हफ्ते में दुनिया भर में कोरोना के 16 फीसदी मामले बढ़े हैं। कोरोना के बढ़ते इस खतरे को देख भारत की ओर से भी कहा जा रहा है कि अगले 100 दिन बेहद खास हैं.

भारत के लिए अगले कुछ महीने इसलिए काफी अहम हो जाते हैं, क्‍योंकि कई देशों में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं. कोरोना के मामले अगर पूरे विश्व आंकड़ों देखें तो इस हफ्ते 33.76 लाख कोरोना के नए केस सामने आए, नए केस में 16 फीसदी की बढ़ोत्तरी हुई .

स्पेन में एक हफ्ते के भीतर ही कोरोना वायरस मामलों की संख्या में 64 फीसदी का इजाफा देखने को मिला . वहीं नीदरलैंड में 300 प्रतिशत की वृद्धि देखी गयी. दक्षिण अफ्रीका में 50 फीसदी, इंडोनेशिया, बांग्लादेश, थाईलैंड में एक ही बार में अचानक मामले तेजी से बढ़े.

भारत में मामले कम हुए हैं लेकिन अब इसके नीचे जाने की रफ्तार कम हो गई है ऐसे में तीसरी लहर का खतरा देश पर मंडरा रहा है. दक्षिण अफ्रीका, इंडोनेशिया, बांग्लादेश, थाईलैंड में भी कोरोना के मामले अचानक से बढ़ने लगे. भारत में कोरोना के मामले कम तो हो रहे हैं लेकिन उनके कम होने की रफ्तार पहले की तुलना में कम हुई है.  ऐसे में भारत में भी कोरोना की तीसरी लहर का खतरा देखा जा रहा है. कोरोना के मामले कम हुए हैं लेकिन कम होने की रफ्तार अब कम हो गई.

कोरोना केस घटने की रफ्तार में गिरावट का धीमा होना चिंताजनक है क्योंकि भारत में अभी भी प्रति दिन 40,000 से अधिक मामले दर्ज हो रहे हैं.  पिछले सप्ताह का औसत 41,256 था जबकि पिछले सप्ताह यह 43,668.  केरल के मामले को देखकर चिंता बढ़ी है जहां पिछले सप्ताह राज्य में कुल 91 हजार 652 मामले सामने आए. यहां कोरोना मामलों में 8.1% का इजाफा देखने को मिला.

राज्य में बढ़ते मामलों का यह लगातार दूसरा सप्ताह था. कोल्हापुर, सांगली और सतारा जैसे जिलों में महामारी के नए केंद्र के रूप में उभरने के साथ, महाराष्ट्र में भी बड़ी संख्या में मामले दर्ज किए जा रहे हैं.  वहीं देश के पूर्वोत्तर में अरुणाचल प्रदेश में 5-11 जुलाई के दौरान मामलों में 43.8% की वृद्धि हुई, इसके बाद मिजोरम में 42.9% की वृद्धि हुई। मणिपुर में संक्रमण में 26.6% की वृद्धि हुई, जबकि त्रिपुरा में 7.9% की वृद्धि देखी गई.

कोरोना के खिलाफ भारत अभी तक पूरी तरह से हर्ड इम्युनिटी हासिल नहीं कर पाया है। ऐसे में कोरोना के संक्रमण के तेजी से फैलने की आशंकाओं को अनदेखा नहीं किया जा सकता है. हर्ड इम्युनिटी एक ऐसी स्थिति है जब संक्रमण के अनियंत्रित प्रसार को रोकने के लिए पर्याप्त लोगों ने टीकाकरण या पिछले संक्रमण से प्रतिरक्षा हासिल कर ली हो.

कोरोना केस कम होने के साथ ही लोग एक बार फिर लापरवाह दिखाई पड़ने लगे. हिल स्‍टेशन और बाजारों में लोगों की भीड़ बढ़ती जा रही है. केंद्र सरकार ने कहा कि लोग तीसरी लहर के चेतावनी को हल्‍के में ले रहे हैं जिसपर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी अपनी बात रखनी पड़ी और लोगों को कोरोना की तीसरी लहर से बचने के लिए घर पर रहने की अपील करनी पड़ी. हाल ही में इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने एक बयान में कहा कि तीसरी लहर बस आने ही वाली है.कोरोना नियमों में ढील देने के बाद लोगों की लापरवाही भी बढ़ी है.

Latest News

World News